देशराजनीति
Trending

किसान आंदोलन के मद्देनज़र 6 और 7 सितंबर के लिए केंद्र सरकार ने Internet सेवाएं की बंद- जानिए राकेश टिकैत का बड़ा बयान

किसान आंदोलन के मद्देनज़र 6 और 7 सितंबर के लिए केंद्र सरकार ने Internet सेवाएं की बंद- जानिए राकेश टिकैत का बड़ा बयान

किसान आंदोलन के मद्देनज़र 6 और 7 सितंबर के लिए केंद्र सरकार ने Internet सेवाएं की बंद- जानिए राकेश टिकैत का बड़ा बयान


हरियाणा: लम्बे समय से चल रहे किसान आंदोलन किसानों और सरकार के बीच कृषि कानूनों को लेकर मतभेद में अब नया मोड़ आया है, सूत्रों की माने तो किसान आंदोलन में किसान अब जगह-जगह महापंचायत का आयोजन जोर शोर से कर रहे हैं। बता दें की हरियाणा स्थित करनाल में किसान आंदोलन में देश के किसानों द्वारा महापंचायत का आयोजन आरम्भ हुआ। इसी कारणवश किसान आंदोलन में केंद्र सरकार ने 6 और 7 सितंबर को Internet की सभी सेवाएं बंद करने का ऐलान भी किया है, सरकार का मानना है कि इस कदम से अफवाहों को फैलाया नहीं जा सकेगा साथ ही किसान आंदोलन की अफवाहों पर केंद्र की पकड़ रहेगी ।

भारत टाइम्स पर ये भी पढ़ें-RBI Policy 2021 | डबल KYC की कोई आवश्यकता नहीं | रिजर्व बैंक ने एग्रीगेटर सेवा की अनुमति दी

ये भी पढ़ें-  भारतीय रिजर्व बैंक की अन्य पॉलिसीज़ के बारे में यहाँ जानें

किसान नेता की कब्र दिल्ली बॉर्डर पर बनेगी ?

किसान आंदोलन के मद्देनज़र 6 और 7 सितंबर के लिए केंद्र सरकार ने Internet सेवाएं की बंद- जानिए राकेश टिकैत का बड़ा बयान

रिपोर्ट्स की माने तो किसान आंदोलन में किसानों द्वारा प्रदर्शन के इस कदम को देखते हुए हरियाणा पुलिस ऐसी परिस्थिती को सँभालने के लिए सभी प्रकार की तैयारियां कर रही है , पुलिस ने मुख्य राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 44 (अंबाला-दिल्ली) पर फुल बैरिकेडिंग कर घेराव कर दिया है। किसान आंदोलन के किसान नेता राकेश टिकैत ने इस मांमले पर कहा है कि –
“हमने शपथ ली है कि, मरते दम तक हम धरना से नही हटेंगे….”
यही नहीं टिकैत ने वहीँ अपनी कब्र तक बनाने को बोल दिया है ।

भारत टाइम्स पर ये भी पढ़ें U.P. 2021| पादरी पर जबरन धर्मांतरण का आरोप लगाकर , थाने में लात और जूतों से कूटा

देश के किसानों को जवाब कब और कौन देगा?

किसान आंदोलन के मद्देनज़र 6 और 7 सितंबर के लिए केंद्र सरकार ने Internet सेवाएं की बंद- जानिए राकेश टिकैत का बड़ा बयान

ये तो जगजाहिर हो गया है की देश के किसान दिल्ली बॉर्डर पर अब लगभग 9 महीनों से कृषि कानूनों के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे हैं । सही तौर पर देखा जाये तो उत्तर प्रदेश से लेकर हरियाणा तक के हर बॉर्डर पर किसानों का ही कब्जा है। जिसके कारण उन सभी क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर सभी किस्म की internet सेवायें बंद कर दी गयीं है।

ये भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश लेखपाल जीके व अन्य कम्पटीशन की किताबें यहाँ से खरीदें 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button