हेल्थ

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं

एसिडिटी एक आम समस्या है जो ज्यादातर लोग किसी न किसी समय अनुभव करते हैं। यह आमतौर पर सीने में जलन के रूप में होता है और बेचैनी, चिड़चिड़ापन का रूप ले लेता है। तनावपूर्ण जीवनशैली और अनुचित खान-पान जैसे कई कारक एसिडिटी का कारण बन सकते हैं।

हालांकि, जीवनशैली में कुछ साधारण बदलाव करके आप एसिडिटी से बच सकते हैं। आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ दीक्षा भावसार ने कहती हैं, “किसी बीमारी के इलाज की दिशा में पहला कदम उसे रोकना होता है क्योंकि रोकथाम इलाज से बेहतर है”।

भारत टाइम्स पर ये भी पढ़ें- Health 2021 | दुनिया के कुछ हिस्सों में कोविड टीकाकरण दर में आई गिरावट विशेषज्ञ चिंतित


दीक्षा ने अपने एक इंस्टाग्राम पोस्ट में कुछ निवारक उपाय साझा किए हैं–

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं


*अधिक मसालेदार, खट्टा, नमकीन, तला हुआ और फास्ट फूड से बचें।

* अधिक भोजन न करें।* खट्टे फलों से दूर रहने की कोशिश करें।

* अगर एसिडिटी की समस्या हो तो ज्यादा देर तक भूखे न रहें।

* भोजन न छोड़ें (दोपहर का भोजन कभी न छोड़ें)

* असमय और अनियमित भोजन करने से बचें

* रात का भोजन जल्दी करें।

*अत्यधिक मात्रा में लहसुन, नमक, तेल, मिर्च आदि वाले खाद्य पदार्थों से बचें। मांसाहारी खाद्य पदार्थों से बचना सबसे अच्छा है।

*भोजन के तुरंत बाद और लापरवाह स्थिति में लेटने से बचें। सबसे अच्छी अनुशंसित स्थिति पोजिशन (वामकुक्षी) होती है।

*धूम्रपान, शराब, चाय, कॉफी और एस्पिरिन जैसी दवाओं से बचें।

**आखिरी और बहुत जरूरी चीज है तनाव से बचना।


हालांकि, यदि आप पहले से ही परिणामों से पीड़ित हैं, तो विशेषज्ञ ने जो कुछ भी आसान।

भारत टाइम्स पर ये भी पढ़ें-  Health 2021: मस्तिष्क में इलेक्ट्रोड मिर्गी के गंभीर मामलों के लिए नई आशा


घरेलू उपचार साझा किए हों वो आपका इलाज कर सकते हैं जैसे–

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं


*पूरे दिन धनिया का पानी पर घूंट-घूंट पिएं।

*भोजन के बाद आधा चम्मच सौंफ चबाएं।

**नारियल का पानी पिएं।

*आप दोपहर में सौंफ का शरबत (रस) भी पी सकते हैं (सौंफ + मिश्री)।

** एक मुट्ठी भीगी हुई किशमिश खाली पेट लें।

* रात को सोते समय 1 चम्मच गाय के घी के साथ गुनगुना दूध लें (अनिद्रा और कब्ज में भी मदद करता है)।

* *गुलाब जल और पुदीने का पानी ठंडा कर के पिएं जो पाचन में भी मदद करता है।

*फल: मीठे अनार, केला, सेब, आलूबुखारा, किशमिश, खुबानी, नारियल (अपना स्थानीय चुनें)।

भारत टाइम्स पर ये भी पढ़ें- 7 स्वादिष्ट साग व्यंजन जिन्हें आपको आजमाना चाहिए


 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का भी सुझाव दिया जिन्हें डॉक्टर के परामर्श के बाद खाया जा सकता है–

एसिडिटी से बचाव और इलाज के 100% आसान उपाय | जानिए आयुर्वेदिक विशेषज्ञ क्या कहते हैं


*आंवला: या तो फल, जूस या पाउडर के रूप में।

*शतावरी : सोते समय दूध के साथ।

**यस्तिमधु (नद्यपान जड़ का पाउडर): अम्लता के लिए सबसे अच्छा काम करता है (उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए नहीं)

* एलोवेरा जूस: 20- 25 मिली खाली पेट।


आयुर्वेद विशेषज्ञ दीक्षा ने सलाह दी है कि, “पर्याप्त आराम करें, पर्याप्त पानी पिएं, अच्छी नींद लें, योग, प्राणायाम, ध्यान और नियमित रूप से व्यायाम करें”। शीतली, शितकारी, अनुलोम विलोम और भ्रामरी एसिडिटी के लिए सर्वोत्तम प्राणायाम हैं।

ये भी पढ़ें-  यहां जानिए इंसान कौन सा खाना आसानी से पचा सकता है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button